-->

Virat Kohli Biography in Hindi With Success Tips

Virat Kohli Biography in Hindi

 विराट कोहली का शुरुआती जीवन (Virat Kohli Life Story):

            विराट कोहली का जन्म 5 नवंबर 1988 में दिल्ली में हुआ था  बचपन  में विराट कोहली उत्तम नगर में रहते थे उनको बचपन में प्यार से चीकू नाम से बुलाया जाता था विराट कोहली को क्रिकेट खेलने की प्रेरणा अपने पिता से मिली रे हर समय विराट को क्रिकेट  खेलने के लिए प्रोत्साहित करते रहते थे एक बार किसी ने उनके( विराट) के पिता से कहा कि आप अपने बेटे को गली क्रिकेट की बजाय प्रोफेशनल  क्रिकेट  खिलाइए क्योंकि विराट बचपन से ही बहुत अच्छा क्रिकेट खेल लेते थे इसलिए उनके पिता ने उन्हें दिल्ली के क्रिकेट एकेडमी में क्रिकेट सीखने के लिए भेजा वहां (राजकुमार शर्मा) उनके कोच थे वह बताते हैं कि कोहली  क्रिकेट के लिए पागल थे सब बच्चे शाम को प्रैक्टिस के बाद घर चले जाते थे पर कोहली बल्ले को छोड़ते ही नहीं थे उनको जबरदस्ती घर भेजना पड़ता था इस तरह से विराट को शुरू से ही क्रिकेट   से बहुत प्यार था  जो कि आगे चलकर उनका जुनून बन गया |

विराट कोहली का परिवार (Virat Kohli Family):

 विराट कोहली की माता का नाम सरोज कोहली  है और पिता का नाम प्रेम कोहली  है उनका एक बड़ा भाई भी है जिसका नाम विकास कोहली  है और एक बड़ी बहन जिसका नाम भावना कोहली   है विराट की पत्नी का नाम अनुष्का शर्मा है जो एक जानी-मानी बॉलीवुड की मशहूर अदाकारा है विराट का 2017 में अनुष्का शर्मा से विवाह हुआ था विराट ने अपने बचपन में ही अपने पिता को एक  स्ट्रोक की वजह से खो दिया था |

 विराट की क्वालिफिकेशन (Virat Kohli Education ):

 विराट की सफलता को देखकर  पता लगता है कि वह काफी पढ़े लिखे होंगे पर ऐसा नहीं है उन्होंने सिर्फ 12वीं कक्षा तक पढ़ाई की है जब वह अंडर-19 वर्ल्ड कप टीम में कप्तान थे तो कप्तान के तौर पर चुने गए तो उन्हें अपनी आगे की पढ़ाई करने का मौका नहीं मिल पाया| virat kohli biography in hindi  में  उन्होंने अपनी 12वीं कक्षा तक की पढ़ाई विशाल भारती स्कूल दिल्ली में की है भले ही विराट ज्यादा पढ़े-लिखे पढ़ नहीं पाए पर उनकी मेहनत की बदौलत आज ऊंची शिक्षा हासिल करने वाले लोग भी उनको सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर फॉलो करते हैं और उनके फैन हैं|

विराट कोहली का व्यक्तित्व (Virat Kohli's personality):

 विराट कोहली की हाइट 5 फुट 9 इंच है और उनका वजन 72 किलो है उनकी आंखों का रंग काला है और बालों का रंग भी काला है उनका रंग साफ उनके चेहरे का रंग साफ और विराट बहुत ही शरारती स्वभाव के मालिक हैं उनके अंदर हर शुरू किए गए काम को पूरा करने का जुनून है विराट अपनी खुद की मेहनत पर यकीन करने वाले व्यक्ति हैं विराट ने किस उम्र में क्रिकेट खेलना शुरू किया 1998 में जब विराट दिल्ली क्रिकेट अकैडमी 1998 में जब वेस्ट दिल्ली क्रिकेट अकैडमी शुरू की गई थी तब फिर 8 9 साल के थे और वह उस अकैडमी में भर्ती होने वाले पहले क्रिकेट खिलाड़ियों में से एक थे पक्ष दिल्ली क्रिकेट अकादमी में एक संक्षिप्त कार्यकाल के बौद्ध विहार पश्चिम विहार में सिर्फ उद्धार करता कॉन्वेंट में अपनी क्रिकेट पदार्थों के को जारी रखने के लिए चले गए| 

Also Read : Bill Gates Success Story 

virat kohli biography in hindi

विराट कोहली के रिकॉर्ड (Virat Kohli Records):

- भारत के 268वें टेस्ट, 175वें वनडे और 31वें टी20 खिलाड़ी
- अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में 70 शतक, वनडे में 43 (सचिन तेंदुलकर के बाद दूसरे स्थान पर) और टेस्ट में 27 शतक
- वनडे क्रिकेट में सबसे तेज़ 8000 (175 पारी), 9000 (194 पारी), 10000 (205 पारी) और 11000 रन (222 पारी) बनाने का रिकॉर्ड
- दो टीमों के खिलाफ लगातार तीन वनडे शतक लगाने वाले विश्व के एकमात्र खिलाड़ी, कोहली ने श्रीलंका और वेस्टइंडीज के खिलाफ यह रिकॉर्ड बनाया
- अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में सबसे तेज़ 8000 रन (137 पारी) बनाने वाले कप्तान
- एक टेस्ट में 200 से ज्यादा रन बनाने वाले के मामले में कप्तान के तौर पर विश्व रिकॉर्ड, कोहली ने 10 बार यह कारनामा किया
- कप्तान के तौर पर पहली तीन टेस्ट पारी में शतक बनाने वाले पहले बल्लेबाज
- टेस्ट क्रिकेट में लगातार चार सीरीज में चार दोहरे शतक लगाने वाले के एकमात्र बल्लेबाज
- टी20 अंतरराष्ट्रीय में 50 से ज्यादा के सबसे ज्यादा स्कोर (22)
- टी20 अंतरराष्ट्रीय में एक साल में 600 रन बनाने वाले पहले बल्लेबाज
- अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में 50 की औसत से 20000 से ज्यादा रन बनाने वाले एकमात्र बल्लेबाज
- वनडे में लक्ष्य का पीछा करते हुए रिकॉर्ड 26 शतक
- विराट कोहली ने वनडे सीरीज में 7 बार 300 से ज्यादा रन बनाया है और यह एक विश्व रिकॉर्ड है
- विराट कोहली ने रोहित शर्मा के साथ वनडे में चार बार 200 से ज्यादा की साझेदारी निभाई है, यह भी एक विश्व रिकॉर्ड है
- एक साल में सबसे ज्यादा अंतरराष्ट्रीय रन बनाने वाले भारतीय बल्लेबाज (2818 रन, 2017)
- एक साल में 6 वनडे शतक लगाने वाले एकमात्र कप्तान
- टेस्ट में कप्तान के तौर पर सबसे ज्यादा दोहरे शतक (6)
- टी20 अंतरराष्ट्रीय में 0 पर आउट हुए बिना सबसे ज्यादा पारी खेलने वाले बल्लेबाज (47 पारी)
- भारत की तरफ से टेस्ट में सबसे ज्यादा दोहरे शतक लगाने वाले बल्लेबाज

Virat Kohli Biography in Hindi

क्या विराट कोहली सचिन तेंदुलकर से बढ़िया खिलाड़ी हैं (Kohli Better Than Tendulkar)?

 हर खिलाड़ी का एक अलग समय होता है जिन परिस्थितियों वैसे वह जोड़कर आगे बढ़ता है अगर सचिन तेंदुलकर और विराट कोहली की बात की जाए तो उन्होंने अपने करियर में 5490 रन बनाए हैं दूसरी तरफ विराट कोहली ने 5388 रन अब तक बनाए हैं जहां वह इंडिया को टारगेट अचीव करने में मदद कर रहे थे पर विराट कोहली ऐसे खिलाड़ी हैं जो जो खेल के दौरान पैदा होने वाले प्रेशर को पूरी तरह से झेल लेते हैं उनके सामने कोई भी टारगेट अचीव करना नामुमकिन नहीं है वह हर परिस्थिति में सक्षम खिलाड़ी के रूप में सामने आते हैं इसलिए उन्हें रन की मशीन के नाम से भी बुलाया जाता है दूसरी ओर सचिन तेंदुलकर जो हमारे लिए और हमारे देश के लिए आदर्श और हमारा गौरव है अकेले ऐसे भारतीय खिलाड़ी है जिन्होंने भारत रत्न सम्मान से सम्मानित किया जा चुका है वह अकेले ऐसे बल्लेबाज हैं जिन्होंने (100 अंतरराष्ट्रीय) शतक लगाए हैं | सचिन तेंदुलकर और विराट कोहली दोनों ही लाजवाब खिलाड़ी है दोनों का एक-दूसरे के साथ कोई मेल नहीं है एक के अपने गुण हैं और दूसरे के अपने दोनों ही सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी हैं जो परिस्थितियों के अनुकूल होकर अपने आपको साबित कर चुके हैं इसलिए दोनों खिलाड़ी अपने अपने स्थान पर अच्छे हैं जिनमें से एक सर्वश्रेष्ठ चुनना कठिन है|

विराट की क्रिकेट की करियर की शुरुआत(What age Kohli Stated Playing Cricketer
)?

 विराट कोहली की क्रिकेट के करियर की शुरुआत तब हुई जब उन्होंने अक्टूबर 2002 में policy umriger ट्रॉफी में U- 15 दिल्ली खेलने के लिए चुना गया उन्हें इस साल उन्होंने अपनी टीम के लिए सबसे ज्यादा रन बनाएं इसलिए सबसे ज्यादा रन बनाए इसलिए अगले साल उन्हें अपनी टीम के कप्तान के रूप में चुना गया अंदर 15 में शानदार प्रदर्शन के चलते विराट को सन 2014 में दिल्ली की U- 17 टीम में भी सुन लिया गया तब उन्होंने तब उन्हें दिल्ली की तरफ से विजय मर्चेंट ट्रॉफी खेलने का मौका मिला इसमें भी उनका प्रदर्शन लाजवाब रहा जिसके बाद में क्रिकेट के चाहने वालों की नजर में आने लगे वह क्रिकेट की जाने वालों की नजर में आने लगे विराट के जीवन में सबसे बड़ा मोड़ तब आया जब उन्होंने U-19 टीम में चुन लिया गया इस बीच उन्हें पहला विदेशी टूर इंग्लैंड का मिला जहां उन्होंने अंडर-19 में पाकिस्तान के खिलाफ बेहतरीन प्रदर्शन किया था इसी के चलते फिर मार्च 2018 में उन्हें भारत की U-19 टीम का कप्तान बना दिया गया|  कप्तान कोहली की अगुवाई में मलेशिया में हुए अंडर-19  कप में भारत में को भारत ने जीता था इन सब के बाद कई बार भारत की ओर से विराट को खेलने के लिए चुना गया है भारतीय टीम में दिक्कत खिलाड़ी होने के कारण विराट को खेलने का मौका कम ही मिला पर जब जब मैं खेलते थे तब तक भारतीय टीम को भरपूर लाभ होता था और अपनी अच्छी बल्लेबाजी की वजह से उन्होंने भारतीय टीम में अपनी जगह सुनिश्चित कर ली थी फिर भी रात को भारत के सबसे सफल कप्तान धोनी के रिटायर होने के बाद भारतीय टीम के तीनों फॉर्मेट का कप्तान बना दिया गया|
                                   अगर विराट के आईपीएल करियर की बात करेंअगर विराट कोहली के आईपीएल करियर की बात करें तो यह हम सब जानते हैं कि विराट कोहली शुरू से ही बेंगलुरु की ओर से खेलते आए हैं उन्होंने बैंगलोर को अपने अकेले के दम पर बहुत से मैच जीते हैं और जब जब टीम संकट में होती है तब तब उन्होंने टीम को संकट मोचन बनकर उसके उसे संकट से निकाल कर विजय हासिल करवाई है अब विराट बेंगलुरु की टीम की कप्तानी भी संभालते हैं उन्होंने 2016 के आईपीएल में बेंगलुरु की ओर से 973 रन बनाए यह T20 में बनाया गया अब तक का शुरुआत इसको है ऐसे ही विराट की मेहनत के बल पर अपना भविष्य ऊंचाइयों ऊंचाइयां छूते गया और वह क्रिकेट की दुनिया के महान खिलाड़ी बन गए|

Also Read: Elon Musk Success Story and Secretes.

Disqus Comments